यूक्रेन में 'तिरंगा' बना कवच | Ukraine made 'tricolor' armor

राजधानी पर कब्जे के लिए कीव में घुसी रूसी सेना

  • सूमी शहर पर रूसी सेना का नियंत्रण
  • यूक्रेन के राष्ट्रपति ने कहा लोग उसका विरोध
  • यूक्रेन सेना हथियार डाल दे वार्ता संभव : रूस
  • हमने 1000 रूसी सैनिक मार गिराए : यूक्रेन
यूक्रेन में 'तिरंगा' बना कवच | Ukraine made 'tricolor' armor
यूक्रेन से रोमानिया या हंगरी के रास्ते भारत आने वाले छात्र सुरक्षा के लिए तिरंगा हाथ में लेकर चल रहे हैं। 

कॉलेज के पास गिरा बम, बेसमेंट में छिपे 

रूस ने की नेशनल मेडिकल कॉलेज के हॉस्टल के समीप बम गिराए। ऐसे में यहां के विद्यार्थियों को जान बचाने के लिए बेसमेंट में छिपना पड़ा। जहां मोबाइल नेटवर्क भी बाधित रहे। वही छिपी बैठी राजस्थान जोधपुर निवासी भावना विश्नोई ने व्हाट्सएप मैसेज से बताया कि होस्टल प्रशासन हम सभी को बेसमेंट में ले गया। यहां पानी के पंप लगे हुए हैं इनके बीच हम बैठे हैं। 


टेंको की हलचल से बढ़ी दहशत... जापोरिज्जिया मेडिकल कॉलेज के आसपास  भी शुक्रवार को सैनिकों व टेकों की हलचल के बाद विद्यार्थियों को करीब 15 मिनट तक अंडर ग्राउंड रहना पड़ा। बारां जिले के केलवाड़ा निवासी स्वर्णा भार्गव ने बताया आज सुबह कुछ टैंक हॉस्टल के बाहर से गुजरे थे। 

इसके बाद दहशत फैल गई। हमें कॉलेज प्रशासन की ओर से बताया गया कि रोमानिया के रास्ते भारत भेजा जा सकता है। इसके लिए पासपोर्ट वीजा, खाने पीने के सामान , एटीएम कार्ड , कैश समेत अपना बैग तैयार करने के लिए कहा गया। यहां से सड़क मार्ग से रोमानिया पहुंचने में करीब 17 से 18 घंटे का समय लग सकता है। इसके अलावा दूतावास की ओर से हंगरी के रास्ते जाने का फार्म भी भरवाया गया है फिलहाल यहां से निकलने के मैसेज का इंतजार कर रहे हैं।

ताजा अपडेट
  1. यूक्रेन के सूमी शहर में 400 भारतीय छात्रों ने रूसी सेना के नियंत्रण में आने के बाद एक तहखाने में शरण ली। 
  2. भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि यूक्रेन में लगभग 20,000 भारतीय है और लगभग 4,000 पहले ही भारत लौट चुके हैं। 
  3. पोलैंड में पोलिस - यूक्रेन सीमा पर क्रकोविएक में शिविर कार्यालय स्थापित किया जा रहा है। 
हाइलाइट्स
  • यूक्रेन का कहना है कि रूसी सैनिक राजधानी कीव के उत्तरी जिलों में है और आगे बढ़ते हुए दिखाई दे रहे हैं। 
  • यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की मैं यूरोपीय नागरिकों से विरोध करने और अपने सरकारों से हस्तक्षेप करने का आह्वान किया। 
  • संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि यूक्रेन में हमलो में कम से कम 25 नागरिक मारे गए हैं और 102 घायल हुए हैं। 

यूक्रेन में कभी भी हो सकता है सत्ता परिवर्तन

रूसी आक्रमण के दूसरे दिन शुक्रवार को राजधानी कीव सुबह दो जोरदार धमाकों से हुई। इसके बाद रूसी सेना के टैंक राजधानी पर कब्जा करने के लिए कीव में घुस गये। माना जा रहा है कि यूक्रेन में कभी भी सत्ता परिवर्तन हो सकता है। इस आक्रमण से यूक्रेन में फंसे करीब 20,000 भारतीय नागरिकों के लिए हमारा राष्ट्रीय ध्वज "तिरंगा" कवच का काम कर रहा है। भारतीयों को वहां से निकलने का प्रयास कर रहे दूतावास अधिकारियों ने सलाह दी कि ' भारतीय ध्वज का प्रिंट आउट ले और यात्रा के दौरान वाहनों और बसों पर प्रमुखता से चिपकाए ' यह भी कहा कि वे पासपोर्ट , नगद ( अमेरिकी डॉलर में ) अन्य वस्तुएं और कोविड-19 टीकाकरण प्रमाण पत्र लेकर ही सीमा चौकियों पर जाए। 

दो विमानों से आज लौटेगा भारत का पहला जत्था।  

भारतीय विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि एयर इंडिया रूसी सैन्य हमले के कारण यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए शुक्रवार को रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट के लिए दो उड़ानें संचालित की जा रही है। उन्होंने कहा कि सड़क मार्ग से यूक्रेन  - रोमानिया सीमा तक पहुंचने वाले भारतीय नागरिकों को भारत सरकार के अधिकारी बुखारेस्ट ले जाएंगे। 

ताकि उन्हें एयर इंडिया की 2 उड़ानों से निकाला जा सके। एयर इंडिया के दो उड़ाने शनिवार को बुखारेस्ट से रवाना होगी। विदेश मंत्रालय रोमानिया और हंगरी से निकासी मार्ग स्थापित करने के लिए काम कर रहा है। 

वाया रोमानिया और हंगरी

कीव और रोमानिया सीमा चौकी के बीच दूरी 100 किलोमीटर है और इसे सड़क मार्ग से तय करने में 8.30 से 11 घंटे लगते हैं। बुखारेस्ट रोमानिया की सीमा जांच बिंदु से 500 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। और सड़क मार्ग से दूरी को कवर करने में 7 से 9 घंटे लगते हैं। कीव और हंगेरियन सीमा चौकी के बीच की दूरी लगभग 820 किलोमीटर है।  और इसे सड़क मार्ग से तय करने में 12 से 13 घंटे लगते हैं। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ