विवाह में केवल 100 व्यक्ति, जयपुर में कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल 9 तारीख तक बंद

कोविड-19 की नई गाइडलाइन जारी

अंतिम संस्कार में शामिल होने वालों की संख्या को भी 20 तक सीमित कर दिया गया। रात 11:00 बजे से सुबह 5:00 बजे तक पूरे प्रदेश में रहेगा जन अनुशासन कर्फ्यू। 

कोविड-19 की जांच करते हुए


राज्य सरकार ने ओमिक्रोन सहित कोरोना के मामले बढ़ते ही जयपुर नगर निगम क्षेत्र के स्कूलों में कक्षा 1 से 8 तक की शैक्षणिक गतिविधियां 9 जनवरी तक के लिए बंद कर दी गई। प्रदेश में शादी समारोह में अब 100 व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे। इसमें बैंड बाजे व कैटरिंग स्टाफ की संख्या शामिल नहीं होगी। रैली ,जुलूस ,धार्मिक, सामाजिक ,खेलकूद सहित सभी तरह के कार्यक्रमों में अब  100 लोग ही शामिल हो सकेंगे। 

अंतिम संस्कार में शामिल होने वालों की संख्या को भी 20 व्यक्ति तक सीमित कर दिया गया है। स्कूलों को लेकर आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा। लेकिन गाइडलाइंस में शेष प्रावधान 7 जनवरी से लागू होंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गाइडलाइन जारी होने से पूर्व रविवार को कोरोना के लेकर वुसी के जरिए सर्वदलीय बैठक की‌। बैठक में कांग्रेस, बीजेपी , बसपा , सीपीएम नेता , धर्मगुरु , एनजीओ , सामाजिक संगठन के प्रतिनिधि जुड़े और कोरोना के हालात को लेकर अपने सुझाव दिए। 

सुझाव के आधार पर राज्य सरकार ने देर रात गाइडलाइन जारी कर दी। बैठक में गहलोत ने अफवाह है और आशंका के बीच स्पष्ट किया था कि कोई भी फैसला थोपा नहीं जाएगा। सुझाव के आधार पर ही कार्ड लाइन में धार्मिक स्थलों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल की पालना जरूरी की गई है

दो लहरों में जो साथ दिया उसको भुलाया नहीं जा सकता

गहलोत ने दोनों लहरों के हालातों को याद किया तथा कहा कि सभी लोगों ने काम किया , सरकारी मशीनरी , आमजन के काम को हम कैसे भूल सकते हैं। उन्होंने खुद के लिए कहा कि मैं केवल निमित्त मात्र हूं। उन्होंने डॉ व अन्य मेडिकल स्टाफ ,पुलिस सहित फेंट लाइन वर्कर्स को योद्धा कहा। उन्होंने कहा कि उस दौरान 500000 लोगों को सीधा पैसा पहुंचाया। 

90 फ़ीसदी लोगों ने मास्क लगाने के लिए बंद। 

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि कोरोना की सुनामी आएगी। 90 किस दिन लोगों ने मास्क लगाने बंद कर लिए हैं। लोगों को मास्क पहनना होगा और सोशल डिस्टेंसिंग भी रखनी होगी। इसके लिए सरकार अभियान चलाएगी और आम लोग भी आपस में टोके। मैंने सबसे पहले पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर बूस्टर डोज की मांग उठाई जिसे कुछ हद तक मान लिया है। 

जनता के इस सवाल का जवाब नहीं

गहलोत ने कहा कि राजनीति रेलिया चल रही है शादियों का सीजन है लोग हमसे पूछते हैं कि आप राजनीतिक मीटिंग करते हो और हमें आयोजन करने से मना करते हो इस सवाल पर हमारे पास कोई जवाब नहीं होता इसके लिए राजनीतिक दलों को सोचना होगा। 

शादी में दो पुलिस वालों से भी पड़ेगा असर : गहलोत ने कहा कि पुलिस भी भीड़ लगाने वालों और मास्क नहीं पहनने वालों को ठोके। ऐसा नहीं किया तो कोरोनावायरस ज्यादा बढ़ेगा। शादी समारोह में दो पुलिस वाले भी खड़े हो जाएंगे तो फर्क पड़ेगा हम सब मिलकर कोरोना की जंग जीतेंगे। 

यह भी आए सुझाव

  • स्कूलों में वैक्सीनेशन कैंप लगाई जाए
  • विवाह समारोह में संख्या को सीमित किया जाए
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों पर लोगों को नियंत्रित करें
  • रात में कर्फ्यू से कोई फायदा नहीं अन्य व्यवस्था भी करें
  • बचे हुए को पहले और दूसरे दोस्त घर लगा दी जाए। 
  • वैक्सीन के लिए डोर टू डोर अभियान चलाएं
  • वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा दिया जाए। 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ