राष्ट्रपति का भारत दौरा : कई समझौतों पर हुए हस्ताक्षररूसी

 2 साल बाद मोदी से मिले पुतिन , कहां भारत रूस संबंध अद्वितीय

 


Table of contents (toc)

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच करीब 2 साल बाद सोमवार आमने सामने की मुलाकात हुई। दोनों की बैठक में द्विपक्षीय , वैश्विक , और क्षेत्रीय महत्व के विषयों पर चर्चा हुई। यहां हैदराबाद हाउस में पहले उन्होंने अकेले में बातचीत की। इसके बाद दोनों देशों के प्रतिनिधि मंडल स्तर की बैठक का नेतृत्व किया। 

पीएम मोदी ने भारत और रूस की मित्रता को बेमिसाल बताते हुए कहा कि दोनों देशों के विशिष्ट रणनीतिक संबंधों में निरंतर मजबूती आई है। वही , पुतिन ने कहा कि हम भारत को एक महान शक्ति , एक मित्र राष्ट्र और समय की कसौटी पर खरे उतरने वाले मित्र के रूप में देखते हैं। दोनों देशों के बीच संबंध बढ़ रहे हैं और मैं भविष्य की ओर देख रहा हूं। 


2025 तक के लक्ष्य तय... 


मोदी ने कहा कि हमने 2025 तक 30 बिलीयन डॉलर ट्रेड और 50 बिलियन डॉलर के निवेश का लक्ष्य रखा है। आज हमारे बीच हुए विभिन्न समझौतों से इस में मदद मिलेगी। मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत कौर डेवलपमेंट और को प्रोडक्शन से हमारा रक्षा सहयोग और भी मजबूत हो रहा है। 

वही पुतिन ने कहा कि पिछले साल दोनों देशों के बीच ट्रेड में 17 फ़ीसदी की गिरावट हुई थी लेकिन इस साल पहले 9 महीनों में ट्रेड में 38 फ़ीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। 


एके - 203 की खरीद के समझौते पर लगी मुहर ... 


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रूसी रक्षा मंत्री जनरल ने भारत और रूस के बीच विभिन्न समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके तहत भारत रूस ने राइफल प्राइवेट लिमिटेड के माध्यम से 6,01,427 (7.63गुना 39 मिमी ) असाल्ट राइफल एके - 203 की खरीद के लिए अनुबंध 2021 - 2031 से सैन्य तकनीकी सहयोग के लिए कार्यक्रम जैसे समझौते पर हस्ताक्षर किए। इसके साथ ही दोनों देशों के बीच कलाश्निकोव सीरीज के छोटे हथियारों के निर्माण के क्षेत्र में सहयोग पर समझौते में संशोधन व प्रोटोकॉल दस्तखत हुए। 


कार्यकलाप में अभूतपूर्व बढ़ोतरी ...


दूसरी ओर भारत रूस 2+2 अंतर मंत्रालय वार्ता के दौरान रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत रूस रक्षा कार्यकलापों में हाल के दिनों में अभूतपूर्व तरीके से प्रगति हुई है। हमें उम्मीद है कि इन रोज चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में भारत के लिए एक प्रमुख भागीदार बना रहेगा। वहीं रूसी रक्षा मंत्री ने कहा कि इस समय दोनों देशों के बीच संबंधों के लिए रूस भारत रक्षा सहयोग महत्वपूर्ण है। मुझे विश्वास है कि रूस और भारत से क्षेत्रीय सुरक्षा बढ़ाने में मदद करेंगे। 


वैश्व का महत्वपूर्ण दौर ...


 विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि भारत एवं रूस के संबंध बदल रहे हैं विश्व में बहुत करीबी एवं समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं। उन्होंने कहा कि संबंध असाधारण रूप से स्थाई रहे हैं। विदेश मंत्री ने कहा हम वैश्विक भूख राजनीतिक माहौल के एक महत्वपूर्ण दौर में मिल रहे हैं। कोविड-19 महामारी के बाद माहौल में बदलाव हो रहे हैं। 


आतंकवाद पर हम चिंतित

रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि हम हर उस चीज के बारे में चिंतित है जो आतंकवाद से जुड़ी है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई भी मादक पदार्थों की तस्करी और संगठित अपराध के खिलाफ लड़ाई है। हम अफगानिस्तान की स्थिति और वहां के हालात के बारे में चिंतित है - पुतिन

समीकरण बदलते पर मित्रता बनी रही

मोदी ने कहा कि पिछले कुछ दशक से दुनिया में बहुत से बुनियादी बदलाव आए और दुनिया ने अनेक प्रकार के भू राजनीतिक समीकरणों को बनते बिगड़ते देखा लेकिन भारत और रूस की मित्रता बराबर बनी रही हमारे विशेष रणनीतिक साझेदारी लगातार मजबूत होती जा रही है। - मोदी


कोविड-19 संबंधों का विस्तार

मोदी ने कहा दोनों देशों के विशिष्ट रणनीतिक संबंधों में नरेंद्र मजबूती ही आई है कोविड-19 चुनौतियों के बावजूद भारत - रुस संबंधों में विस्तार की रफ्तार में फर्क नहीं आया है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ