Clean Survey 2021

स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 : काम से ज्यादा "राजनीति" पड़ी भारी, पिछले साल से भी गिर गई रैंकिंग

स्वच्छता में राजस्थान फिसड्डी साबित, 32 के नंबर पर फिसले


स्वच्छ सर्वेक्षण 2021
Cleanliness Survey 2021



कचरा मुक्त शहरों में डूंगरपुर को छोड़कर सभी शहरों को मिला 0 अंक



स्वच्छता रैंकिंग में राजस्थान फिसड्डी साबित हुआ। हमारा कोई भी शहर एक बार फिर टॉप 10 में जगह नहीं बना पाया। उल्टे रैंकिंग में पिछले साल से भी पिछड़ गया। राजस्थान का जयपुर हेरिटेज नगर निगम 32 व और जोधपुर उत्तर 36 वें स्थान पर रहा। वही जयपुर ग्रेटर निगम 36 और कोटा उत्तर 48 वें पायदान पर रहा।
राजधानी जयपुर शहर, मुख्यमंत्री का गृह क्षेत्र जोधपुर और नगरीय विकास मंत्री का गृह शहर कोटा तीनों की रैंकिंग सुधारने के बजाय पिछले साल से गिर गई। 

यह सभी शहर दस लाख से ज्यादा आबादी वाले हैं।  चरामुक्त शहरों की श्रेणी में भी डूंगरपुर को छोड़कर सभी शहरों को सुनने अंक मिले हैं। वेस्ट जोन में डूंगरपुर पहले स्थान पर रहा।  


10 लाख से ज्यादा आबादी वाले शहर


 निकाय            रैंक।         अंक।             प्रतिशत।

जयपुर हेरीटेज    32         3482.08         58.03
 
जोधपुर उत्तर      35        3589.11          56.48

जयपुर ग्रेटर        36        3327.86          55.46

कोटा उत्तर         48         2033.20          33.88


56 शहर शामिल किए गए


50 हजार से 1 लाख तक की आबादी वाले शहरों में प्रदेश का एक भी शहर जगह नहीं बना पाया जबकि रैंकिंग सूची में देश के ऐसे 56 शहर शामिल किए गए हैं।


एक से 10 लाख तक की आबादी वाले शहर। 


स्वच्छ अमृत महोत्सव के तहत इंदौर को सबसे स्वच्छ शहर का प्रथम पुरस्कार


यहां पर प्रदेश के शहरों की रैंकिंग ही  95 नंबर से शुरू हो रही है। इस पायदान पर उदयपुर शहर शामिल है जिसे 3307.90 अंक मिले हैं। इसके बाद जोधपुर दक्षिणा 126 वां , अजमेर 168 वां, सीकर 186 वा, पाली 199, कोटा दक्षिण 220 वे स्थान पर रहा। हालात यह है कि नगर निगम होने के बावजूद बीकानेर 239 वे और भरतपुर 262 वे स्थान पर पहुंच पाया है छोटे शहर इन से आगे। 


जिला रैंकिंग


इसमें हमारी शुरुआत 56 वें पायदान से हुई है। जिसके बाद जयपुर का नंबर है जो कि मुश्किल से 138  नंबर पर पहुंचा है। इसके बाद उदयपुर 145, जोधपुर 198, झालावाड़ 278, जैसलमेर 311, बीकानेर 334, अजमेर 367, कोटा 371 वें नंबर पर है। 

राज्य रैंकिंग


पिछले वर्ष आस्थान इन में नौवें नंबर पर था और अब 1370 अंक के साथ 12वें नंबर पर आ गया। शुरुआती तीन पायदान पर छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश शामिल है। पहले नंबर पर आए छत्तीसगढ़ को 4175 अंक मिले हैं। इस श्रेणी में ऐसे राज्य शामिल है। जहां 100 से ज्यादा निकाय है। 



स्वच्छ भारत का राजा इंदौर छत्तीसगढ़ ने लगाई हैट्रिक




केंद्र सरकार के स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 मैं मध्यप्रदेश के इंदौर ने लगातार पांचवीं बार सबसे स्वच्छ शहर का खिताब हासिल कर लिया है। इस श्रेणी में सूरत और विजयवाड़ा ने दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। जबकि सबसे स्वच्छ राज्य का पहला पुरस्कार लगातार तीसरे साल भी छत्तीसगढ़ को मिला। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यहां एक कार्यक्रम में केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी और अन्य की उपस्थिति में पुरस्कार प्रदान किए। 

केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय की ओर से घोषित नवीनतम सर्वेक्षण परिणामों में इंदौर और सूरत ने " स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021 " में अपना स्थान बरकरार रखा , लेकिन नवी मुंबई को पीछे छोड़ कर इस बार विजयवाड़ा ने तीसरा स्थान हासिल कर लिया। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ