प्रदेश में 29 नए मरीज, जयपुर में 5 स्कूली बच्चों समेत 17 पॉजिटिव

जयपुर में जयश्री पेड़ीवाल स्कूल में एक और बच्चा मिला संक्रमित। 


संक्रमण का बढ़ रहा दायरा : बच्चों पर खतरा, सरकार मुकदर्शक

सवाई मानसिंह अस्पताल में कोरोना की जांच के लिए खड़े कतार जयपुर

Table of contents(toc)


जयपुर : प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को 29 नए मरीज मिले हैं। अकेले जयपुर जिले में 17 नए संक्रमित मिले हैं जिनमें 5 बच्चे शामिल है। चिंता की बात यह है कि अभी तक निजी स्कूलों में ही मिल रहा संक्रमण अब सरकारी स्कूल तक भी पहुंच गया है। जयपुर के झालाना डूंगरी स्थित सोमेश्वर उच्च माध्यमिक विद्यालय में भी दो बच्चे संक्रमित पाए गए हैं। 

वही जयश्री पेड़ीवाल में भी एक बच्चा संक्रमित मिला है। चिकित्सा विभाग ने यहां 2 बच्चे संक्रमित बताए हैं। लेकिन इनमें एक की जानकारी एक दिन पहले ही जारी की जा चुकी है। मानसरोवर में जमवारामगढ़  इलाके में घर से ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे 11 बच्चे संक्रमित मिले हैं। झालाना स्थित सरकारी स्कूल के 11वीं और 12वीं कक्षा के हैं। ऐसे में राजधानी में कुल 5 बच्चे गुरुवार को पॉजिटिव पाए गए हैं। जयश्री पेड़ीवाल स्कूल में अब तक 15 बच्चे संक्रमित पाए जा चुके हैं यहां लगातार चौथे दिन केस मिला है। 


प्रदेश में मिले नए मामलों में जयपुर के अलावा अजमेर और बीकानेर में 3 -3, बाड़मेर,दोसा और नागौर में मरीज मिले हैं। 24 घंटे के दौरान 25909 नई जांच से संक्रमित 0.11 और  15 नए रिकवर के साथ रिकवरी दर अब 99.045 प्रतिशत हो गई है। कुल संक्रमित 9,54,694 कुल मर्तक 8955 है। एक्टिव केस भी 150 पार जाकर आप 155 हो गए हैं। 


सरकारी स्कूल से लिए 237 सैंपल

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि सरकारी स्कूल के 2 बच्चों में कोरोना की पुष्टि के बाद स्कूल में टीम भेजी गई और बच्चों सहित शिक्षकों के 237 सैंपल लिए गए हैं। शंकर विद मिले बच्चों के परिजन केबी कांटेक्ट हिस्ट्री खगाली जा रही है। 


शिक्षा मंत्री ने कहा था सरकारी स्कूल में केस नहीं , दूसरे दिन आ गए


कार्यभार ग्रहण करने के बाद शिक्षा मंत्री बी.डी. कल्ला ने कहा कि प्रदेश में कहीं भी सरकारी स्कूलों में केस नहीं आए हैं। कोरोना के मामले सिर्फ निजी स्कूल में आ रहे हैं। दूसरे दिन ही गुरुवार झालाना डूंगरी स्थित सरकारी स्कूल में कैस आ गए। जयपुर की स्कूलों में कोरोना के केस आने के बाद शिक्षा विभाग में सीबीईओ को निर्देश दिए हैं कि उनके क्षेत्र में आने वाले निजी और सरकारी स्कूलों में रोज बच्चों की रिपोर्ट ली जाए। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ