The great event of the Tokyo Olympics

 *टोक्यो ओलम्पिक की महान घटना*



केनिया के सुप्रसिद्ध धावक अबेल मुताई ओलंपिक प्रतियोगिता में अंतिम राउंड मे दौड़ते वक्त अंतिम लाइन से एक मीटर ही दूर थे और उनके सभी प्रतिस्पर्धी पीछे थे। अबेल ने स्वर्ण पदक लगभग जीत ही लिया था,


CK cow app payment proof and review.


इतने में कुछ *गलतफहमी* के कारण वे अंतिम रेखा समझकर एक मीटर पहले ही रुक गए। उनके पीछे आने वाले *स्पेन के इव्हान फर्नांडिस* के ध्यान में आया कि अंतिम रेखा समझ नहीं आने की वजह से वह पहले ही रुक गए। उसने चिल्लाकर अबेल को आगे जाने के लिए कहा लेकिन स्पेनिश नहीं समझने की वजह से वह नहीं हिला। आखिर में इव्हान ने उसे *धकेलकर* अंतिम रेखा तक पहुंचा दिया। इस कारण अबेल का प्रथम तथा इव्हान का दूसरा स्थान आया। 

RBSE 10th Result 2021 Declared. Check name wise here.

पत्रकारों ने इव्हान से पूछा "तुमने ऐसा क्यों किया ? मौका मिलने के बावजूद तुमने प्रथम क्रमांक क्यों गंवाया ?" 

इव्हान ने कहा "मेरा सपना है कि *हम एक दिन ऐसी मानवजाति बनाएंगे* जो एक दूसरे को मदद करेगी ना कि उसकी *भूल* से फायदा उठाएगी, और मैंने प्रथम स्थान नहीं गंवाया।"   STUDY NEWS

पत्रकार ने फिर कहा "लेकिन तुमने केनियन प्रतिस्पर्धी को धकेलकर आगे किया।" 

इसपर इव्हान ने कहा "वह प्रथम था ही। यह प्रतियोगिता उसी की थी।" 

पत्रकार ने फिर कहा, "लेकिन तुम स्वर्ण पदक जीत सकते थे।" 

इव्हान ने कहा, "उस जीतने का क्या अर्थ होता। मेरे पदक को सम्मान मिलता ? मेरी मां ने मुझे क्या कहा होता ? संस्कार एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक आगे जाते रहते हैं। मैंने अगली पीढ़ी को क्या दिया होता ? दूसरों की दुर्बलता या *अज्ञान* का फायदा न उठाते हुए उनको मदद करने की सीख मेरी *मां* ने मुझे दी है।"

 #TokyoOlympics2020null

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ