Surat nikhri to krishi vishwavidyalay ko Mili tarif

सूरत निखरी तो कृषि विश्वविद्यालय को मिली तारीफ। 


जोधपुर कृषि विश्वविद्यालय ने 3 वर्ष पूर्व लूणी गांव को गोद लेकर उसको स्मार्ट बनाने का बीड़ा उठाया। आशा अनुरूप कार्य किया। प्रदेश में राज्यपाल ने भी कृषि विश्वविद्यालय की ओर से गांव के विकास के लिए किए गए कार्यों की प्रशंसा की। कृषि विश्वविद्यालय ने अंत्योदय मिशन के तहत अगस्त 2018 में लूणी गांव का चयन किया था। 
तत्कालीन लूणी विधायक जोगाराम पटेल ने कृषि विवि द्वारा लुणी को स्मार्ट गांव के रूप में विकसित करने की 3 वर्षीय योजना शुरू करने की घोषणा की थी। 
अब राजभवन ने कृषि विश्वविद्यालय द्वारा लूणी गांव में किए गए कार्य को देखते हुए योजना अवधि को 1 साल और बढ़ाने का आदेश जारी किए हैं। 
इसके विश्वविद्यालय योजना के अंतर्गत 1 साल और लूणी गांव में विकास के लिए कार्य करेगा। 

जैविक खेती से बड़ी पैदावार। 

पूर्णत वर्षा आधारित व पारंपरिक खेती पर निर्भर गांव में जैविक खेती में उन्नति के द्वार खोले हैं। जैविक खेती से किसानों को अच्छी उपज ही नहीं बल्कि अच्छी आय भी मिल रही है। परिणाम स्वरूप कृषि उपज में फसल पैदावार में करीब 30% तक वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री कृषि विकास योजना के अंतर्गत 20 -20 किसानों के 25 समूह बनाकर जैविक खेती की जानकारी देकर जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित किया गया। 
इसके अच्छे नतीजे देखने को मिले इनके अलावा विवि ने गांव में उन्नत किस्मो, समझता, पशुधन कृषि में तकनीकी आदि पर कार्य किया। 

ऑक्सीजन पार्क विकसित किया। 

विश्वविद्यालय ने सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत लूनी में ऑक्सीजन पार्क विकसित किया। जिसमें करीब 600 छायादार पेड़ लगाए गए। लोनी में करीब डेढ़ सौ किसानों के खेती पर वर्मी कंपोस्ट इकाइयों की स्थापना कराई गई। 

लोणी गांव को गोद लेकर सामूहिक प्रयासों से अच्छा कार्य किया। राजभवन ने हमारे कार्य को देखते हुए इस गांव में कार्य करने के लिए एक साल और बढ़ाया है। इस अवधि में हम अच्छा कार्य करेंगे। 
कुलपति, कृषि विश्वविद्यालय। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ