Coronavirus vaccine update

  देश में टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू। 



1 मार्च से बुजुर्गों को भी मिलेगा सुरक्षा चक्र। 

सरकारी अस्पतालों में 60 वर्ष से ऊपर वह 45 से अधिक उम्र वाले रोगियों को फ्री टीका। 

प्राइवेट अस्पतालों में टीका लगवाने पर चुकाने होंगे पैसे। 


देश में टीकाकरण का दूसरा चरण 1 मार्च से शुरू होगा। सरकारी अस्पतालों में 7 से अधिक उम्र और 45 से ज्यादा आयु वाले को मुफ्त टीका लगाया जाएगा केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेडकर ने बुधवार को बताया कि पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह फैसला हुआ। 
देश में पहली बार इस चयनित आयु वर्ग के लोगों को प्राइवेट अस्पतालों में भी टीकाकरण किया जा सकेगा। 
लेकिन इसके लिए उन्हें पैसे चुकाने होंगे उन्होंने बताया कि अब टीकाकरण के तहत एक करोड़ 7 लाख 67 हजार लोगों का टीकाकरण हुआ। 
जबकि 14 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक दी गई। 
पूर्व में सरकार ने दूसरे चरण में 50 से अधिक आयु के लोगों को मुक्त टीके का कहा था लेकिन संख्या अधिक होने के कारण से 60 वर्ष कर दिया गया। 


मास्क भी जरूरी। 

जम्मू के एक अस्पताल में बुधवार को कोरोनावायरस के चलते मास्क पहनकर अपनी बारी का इंतजार करते युवा। 

प्राइवेट की भागीदारी इसलिए। 

45 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को बड़ी आबादी है सरकारी अस्पतालों के भरोसे बहुत समय लगता है। 
महाराष्ट्र लगाना में कोराना के दो नए देसी स्टेट सामने आए दूर शहर की आशंका। 
अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर सरकार पीछे नहीं जाना चाहती लोग डाउन 2021 के लिए कतई तैयार नहीं है। 

बड़ा सवाल कौन सा टीका। 

एक्शन ब्रांड के चयन के अधिकार को लेकर फिलहाल सरकार की ओर से कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है। 
सूत्रों के अनुसार प्राइवेट अस्पतालों में टीका लगवाने वालों को पास वैक्सीन ब्रांड चुनने का अधिकार हो सकता है। 

कौन से दस्तावेज जरूरी। 

आधार और मतदाता का पहचान पत्र जरूरी होंगे  को विन ऐप पुष्टि करेगा

को माॅर्बिड श्रेणी में कौन। 

सरकार ने स्पष्ट नहीं किया है। लेकिन डायबिटीज, हाइपरटेंशन, कैंसर, किडनी और हृदय रोगी शामिल हो सकते हैं। 

आयु का निर्धारण कैसे होगा। 

मतदाता पहचान पत्र में दर्ज जन्म तिथि के हिसाब से गणना होगी। 

क्या जगह और टीका लगवाने के समय के चयन का विकल्प होगा। 

जी हां कोविड-19 ऐप पर रजिस्ट्रेशन के बाद आपको जगह और टीका लगवाने का चयन विकल्प होगा। 

दूसरे राज्य का आईडी होने पर भी वर्तमान राज्य में टीका लग सकेगा। 


जी हां कहीं भी टीका लगवाने का विकल्प है। यानी वर्तमान में राजस्थान में रहने वाला मध्य प्रदेश का व्यक्ति रास्ते में टीका लगा सकेगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ